Posts

Showing posts from May, 2024

भय के आगे विजय है - Dar Ke Aage JEET hAI

Image
किसी की सफलता में रुकावट आना, उसका डर एक बड़ा कारण होता है। डर हमेशा सपनों का सबसे बड़ा हत्यारा होता है। हम अपने सपनों का पीछा करने से बचते हैं क्योंकि हमें रास्ते में आने वाली बाधाओं का भय होता है। किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले ही हम आत्म-संदेह और चिंता के एक चक्रव्यूह में फंस जाते हैं और हम सफलता की डगर पर कभी आगे बढ़ ही नहीं पाते हैं। "मै बेहतर नहीं हूं या फिर अगर मैं विफल हो गया तो" बहुत बड़ी संख्या में लोग किसी काम को करने का पहला प्रयास इसी डर की वजह से से नहीं कर पाते हैं। हमें यह समझने की जरूरत है कि हर विफलता के साथ सीखने, बढ़ने और आगे बढ़ने का अवसर मिलता है। बेशक, किसी भी कार्य को करने के साथ हमेशा यह आशंका बनी रहती है कि उसमें असफल भी हो सकते हैं लेकिन इसकी वजह से कोई कार्य करना ही छोड़ दिया जाय यह तो सही नहीं है। एक डरपोक इन्सान मार्शल आर्ट के शिक्षक के पास आया और उसे बहादुरी सिखाने के लिए कहा। गुरु ने उसकी ओर देखा और कहा: मैं तुम्हें केवल एक शर्त के साथ सिखाऊंगा:- एक महीने के लिए तुम्हें एक बड़े शहर में रहना होगा और रास्ते में मिलने वाले हर व्यक्ति को बताना होगा कि

आध्यात्मिक विचार - spiritual thoughts

Image
 मित्रों, यदि आप किसी को बिना वजह दु:ख देते है तो आप यह छोड़ दीजिए क्योंकि किसी को दुख देना या कोई आपको बिना वजह दुख देता है तो यह गलत है। कई लोग, अपने मस्ती के लिए किसी का मज़ाक़ बनाते है तो सामने वाला इंसान उससे दुःखी होता है। इसलिए इस quotes मे लिखा गया है " यदि आप किसी को खुशी नहीं दे सकते तो आपको उसे दुःख देने का भी अधिकार नहीं है "  गौतम बुद्ध कहते है की हमें ऐसे शब्द बोलने चाहिए जो शांति लाये। हजार खोखले शब्द से बेहतर, वह एक शब्द है जो शांति लाये।  मित्रों कबीर दास जी ने भी कहा है कि " ऐसी वाणी बोलिए मन का आपा खोए, औरोन को शीतल करे आपहूं शीतल होऐ " यानी कि हमे ऐसी बातें बोलनी चाहिए जिससे लोगों को शांति या खुशी महसूस हो एवं जिससे आप के भी मन को ठंडक पहुँचे और आपका मन भी शांत हो। जो आप दूसरे को दोगे एकदिन आपके पास वह लौटकर आएगा इसलिए सठीक कर्म करें।  आध्यात्मिक विचार - spiritual thoughts     चिंता दूर करे >पढ़े   . .  गौतम बुद्ध के विचार  कबीर के दोहे